विद्याभवन संस्कार और शिक्षा का केंद्र : देवेंद्र फडणवीस


  •  विद्याभवन संस्कार और शिक्षा का केंद्र : देवेंद्र फडणवीस
    विद्याभवन संस्कार और शिक्षा का केंद्र : देवेंद्र फडणवीस
    भारतीय विद्याभवन संस्कार और शिक्षा का केंद्र है, ऐसा गौरवोद्गार मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने...
    1 of 1 Photos

नागपुर : भारतीय विद्याभवन संस्कार और शिक्षा का केंद्र है, ऐसा गौरवोद्गार मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने निकाला वर्धा रोड पर चिचभुवन स्थित भारतीय विद्याभवन की प्राथमिक एवं माध्यमिक इमारत के भूमिपूजन कार्यक्रम में वे बोल रहे थे। इस अवसर पर तामिळनाडू राज्यपाल और भारतीय विद्याभवन के विश्वस्त एवं अध्यक्ष बनवारीलाल पुरोहित, केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितीन गडकरी, पालकमंत्री चंद्रशेखर बावनकुले, महापौर नंदा जिचकार, जिला परिषद अध्यक्षा निशा सावरकर, राजेंद्र पुरोहित, महाराष्ट्र विमानपत्तन प्राधिकरण के व्यवस्थापकीय संचालक सुरेश काकाणी, संचालक श्रीमती अन्नपुर्णी शास्त्री उपस्थित थे।

 फडणवीस ने कहा, शिवणगाँव और परिसर के ग्रामीण क्षेत्र के विद्यार्थियों को भारतीय विद्याभवन की प्रस्तावित शाला में अच्छी और दर्जेदार शिक्षा पाने का अवसर उपलब्ध हुआ है।शिक्षा क्षेत्र में विद्याभवन के माध्यम से बाबुजी और उनकी टीम उत्तम तरीके से काम कर रही है। जगह मिलने के बाद तीन दिनों में शाला की इमारत का काम शुरू हुआ है, इससे काम के प्रति उनकी प्रतिबद्धता दिखाई देती है। विद्याभवन में विद्यार्थियों का प्रवेश होने के बाद उनके जीवन में परिवर्तन होता है। उत्तम नागरिक होने की उनकी यात्रा यहां से शुरू होती है। विद्याभवन की शालाओं में शिक्षा अधिकार कानून का अच्छी तरह से अमल किया जा रहा है, ऐसा मुख्यमंत्री ने कहा।

मिहान प्रकल्पग्रस्तों के बच्चों को इस शाला में प्रवेश के लिए प्राथमिकता दी जाएगी, ऐसा उन्होंने आश्वस्त किया। सर्वांगीण विकास के लिए उत्तम शैक्षिक सुविधाओं के साथ अच्छी इमारत खड़ी हो, ऐसी अपेक्षा उन्होंने व्यक्त की।

संस्कृत भाषा के साथ ज्ञान विज्ञान के साथ परंपरा और उत्तम संस्कार देने की विद्याभवन की परंपरा है, ऐसा श्री. गडकरी ने बताया। शिक्षा का आज व्यापारीकरण हुआ है, ऐसा चित्र है। लेकिन विद्यार्थियों को उच्च दर्जे की शिक्षा देने की विद्याभवन की परंपरा है, ऐसा उन्होंने बताया। देश को चारित्र्यवान नागरिक देने का काम विद्याभवन कर रही है, ऐसा उन्होंने बताया। भारतीय विद्याभवन की स्थापना 1938 में कुलपति के.एम.मुंशी ने की है, ऐसा बताकर श्री.पुरोहित ने कहा कि, आज भवन की देश और विदेश में 400 से अधिक शैक्षिक संस्थाएं हैं। दो लाख से अधिक विद्यार्थी इसमें शिक्षा अर्जित कर रहे हैं। वटवृक्ष जैसा इस संस्था का विस्तार हो रहा है. संस्कारित पीढ़ी निर्माण करने के ध्येय से विद्याभवन के शिक्षक कार्य कर रहे है, ऐसा भी उन्होंने बताया।



add like button Service und Garantie

Leave Your Comments

Other News Today

Video Of The Week